fb1
twitter1
utube1
Screen Reader     II     Skip To Navigation     II     Skip To Main Content     II     A- A A+     II       II     हिंदी में   II                                                       print1
logo
मेकॉन लिमिटेड
भारत सरकार का संस्थान
MECON LIMITED
A GOVT. OF INDIA ENTERPRISE

Content on this page requires a newer version of Adobe Flash Player.

Get Adobe Flash player



gandhi


new The International Youth Contest of Social Advertising Against Corruption. Click for details new

Skip Navigation LinksHome > C.M.D Desk

CMD Desk

    Shri Atul Bhatt, CMD, MECON

    ngt

    स्वतंत्रता दिवस 2019

    प्यारे बच्चों, मेकॉन परिवार के सभी सदस्यों, शानदार Army Band, उत्साहित school platoon, देवियों एवं सज्जनों... 73 (तिहत्तरवें) स्वतंत्रता दिवस, हमारी आज़ादी के इस पावन पर्व की, आप सब को अनेकों- अनेक शुभकामनाएं!!!

    तुलसीदास जी ने ’रामचरितमानस’ में कहा है- “पराधीन सपनेहुँ सुख नाहीं’’ अर्थात् पराधीन व्यक्ति कभी सपने में भी सुख प्राप्त नहीं कर सकता । और हम अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते, उस दुःख और घुटन का, जिसे हमारे पूर्वजों ने 200 सालों तक झेला । इस पराधीनता से स्वधीनता की यात्रा में, हमने बहुत संघर्ष किया और अपने आज़ादी के सिपाहियों के शोर्य एवं दृढ़ता की बदौलत, इस स्वधीनता की अनमोल धरोहर को पाया । उन सभी स्वतंत्रता संग्रामियों तथा महान राष्ट्रनायकों के, अप्रतिम बलिदान के समक्ष, मेरा मस्तक श्रध्दा से नत और ह्रदय गौरव से गद-गद है ।

    जिस प्रकार आज भारत स्वप्न, संकल्प और परिश्रम की अदबुध त्रिवेणी से उर्जान्वित होकर प्रतिदिन अन्छुयी ऊँचाईयों को प्राप्त कर रहा है, उसी प्रकार, मेकॉन ने भी, वित्त वर्ष 2018-19 में, `3191.75 करोड़ की रिकॉर्ड आर्डर बुकिंग (Order Booking) की, जो मेकॉन के इतिहास में अब तक की सर्वाधिक आर्डर बुकिंग रही है ।

    ऐसी ऐतिहासिक आर्डर बुकिंग दर्ज करने का एक प्रमुख्य कारण रहा है, हमारा Atomic Minerals एवं Railway Station Development जैसे नए और संभावनापूर्ण क्षेत्रों में, अपनी मज़बूत दावेदारी प्रस्तुत करना ।

    अपने ऐसे ही अथक प्रयासों व परिणामों से, हम न केवल अपनी क्षमता का बेहतरीन उदहारण प्रस्तुत कर रहे हैं, अपितु, यह भी प्रमाणित कर रहे हैं कि हमने अपने ‘पंच वर्षीय Strategic Business Plan’ के अंतर्गत `1500 करोड़ टर्नओवर (Turnover) वाली कंपनी बनके, जिस क्षितिज को छूने की कल्पना की है, हम उसके लिए पूर्ण क्षमता से डटे हुए हैं ।

    मेकॉन को अपने अमूल्य योगदान से सींचने और प्रगतिशील बनाये रखने के लिए, मैं आप सभी का अत्यंत आभारी हूँ और मुझे पूर्ण विश्वास है कि हम अपने उन्नत प्रयासों और नयी उर्जा के साथ, इस साल और भी प्रभावशाली प्रदर्शन करेंगे ।

    हमारे प्रयासों को एक नयी दिशा देते हुए, हमारे माननीय इस्पात मंत्री, श्री धर्मेन्द्र प्रधान जी ने, मेकॉन की उत्कृष्ट Technological और Engineering विरासत की सराहना करते हुए, हमारे कन्धों पर इस्पात क्षेत्र के 2030-31 के लक्ष्य-प्राप्ति में, एक विशेष भूमिका निभाने का भार सौंपा है ।  इस ज़िम्मेदारी के तहत, हमने कई नयी गतिविधियों का बीड़ा उठाया है, जिनमें से प्रमुख्य हैं –

    • 300MT के लक्ष्य प्राप्ति की रूप-रेखा तैयार करना
    • इस्पात की मांग और उपयोगिता को बढ़ाने का Roadmap बनाना
    • Industry 4.0 के implementation के लिए दिशानिर्देश तैयार करना तथा
    • इस्पात उद्योग के क्षेत्र में, International मानकों की तर्ज पर, भारतीय Steel Safety Board की नियुक्ति के लिए, Concept paper बनाना

    इनके साथ-साथ मंत्रालय ने, केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुसार, मेकॉन तथा अन्य सभी इस्पात उपक्रमों के सौ दिनों, एक साल तथा पांच सालों के ध्येय (Targets) और गतिविधियों (Activities) का सम्पूर्ण ब्यूरा माँगा था, जिसे मेकॉन ने समय सीमा के अन्दर मंत्रालय को उपलब्ध कराया । तत्पश्चात, हमें मंत्रालय से ‘सौ दिनों के लक्ष्यों का Consolidated Plan’ भी प्राप्त हो गया है। मेकॉन के लिए जो ‘सौ दिनों’ के लक्ष्य हैं, मैं उनके बारे में आप सबको सूचित करना चाहूँगा, इनमें से पहला है:

    • Angara 7.1 में Level 2 Automation integrate कर के Angara 7.1A लांच करना
    • दूसरा है, इस्पात क्षेत्र में Industry 4.0 के implementation को सुगम बनाने के लिए Technical Workshops का आयोजन करना
    • तथा तीसरा है, जिसके बारे में मैं अभी चर्चा कर चूका हूँ, वो है भारतीय Steel Safety Board की नियुक्ति के लिए Concept paper बनाना

    सौ दिनों के इन लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए, हमनें अपनी कार्य योजना तैयार कर, उसे अमल में भी लाना आरंभ कर दिया हैं । इसके साथ-साथ, एक साल तथा पांच सालों के लक्ष्य, जो हमारे लिए काफी challenging रहेंगे, उन्हें पूरा करके, हम मेकॉन के नाम और ख्याति को सफलता के नए शिखर पर पहुँचाने के लिए, वचनबद्ध हैं ।

    इस सन्दर्भ में मैं आप सब से यह भी कहना चाहूँगा कि जिस प्रकार हम अपने देश के समग्र विकास की महत्वपूर्ण परियोजनाओं, जैसे कि घर-घर तक गैस पाइपलाइन पहुँचाने वाली ‘उर्जा गंगा’ परियोजना, पूरे ग्रामीण भारत को निरंतर बिजली की आपूर्ति प्रदान करने वाली ‘दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना’ तथा ग्राम पंचायतों में बैंडविड्थ के साथ ब्राडॅबैंड कनेक्टिविटी सुनिश्चत करने के लिए ‘Bharatnet’ परियोजना में, एक अहम् भूमिका निभा रहे हैं, उसी प्रकार ये एक साल तथा पांच सालों के लक्ष्य हमारे लिए केवल ज़िम्मेदारी हीं नहीं, अपितु एक सुनहरा मौका हैं, जिनकी समयबद्ध रूप से प्राप्ति कर, हम राष्ट्र के उत्थान में अपनी भागीदारी को और भी सशक्त बना सकते हैं ।

    मेकॉन के क्षितिज पर अब तक का सबसे चमकीला सितारा रहा है, ISRO, श्रीहरीकोटा का दूसरे लांच पैड project, जिसेमें मेकॉन की अभिन्न भूमिका को हम सभी अत्यंत गर्व से याद करते हैं । मुझे आप सबको ये बताते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है कि, पिछले महीने जुलाई में, ISRO ने 'चंद्रयान-2' का, जो सफल प्रक्षेपण किया, वो हमारे अभियंताओं के द्वारा रचित, ‘दूसरे लांच पैड’ से हीं किया गया । इस मिशन ने, अंतरिक्ष के क्षेत्र में, भारत की छवि को अत्यधिक मज़बूती प्रदान की है। अभी तक दुनिया के पांच देश ही चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करा पाए हैं और रोवर तो केवल चार ही देश उतार पाए हैं । इस mission की सफलता के बाद, भारत भी इस फेहरिस्ट में शामिल हो जायेगा । इस अभूतपूर्व उपलब्धि की प्राप्ति और इस मिशन की सफलता-पूर्वक सम्पन्न होने कि हम सब हार्दिक मनोकामना करते हैं ।

    आने वाले समय में, हमें अपनी इस अविस्मर्णीय उपलब्धि पर और भी गौरवान्वित होने का अवसर मिलेगा, क्यूंकि ISRO इसी लांच पैड से ‘मानव मिशन’ को भी प्रक्षेपित करने की योजना बना रहा है और मेकॉन इस मिशन में अपेक्षित भूमिका निभाने के लिए तत्पर है ।  

    हमें अपने इस्पात क्षेत्र के मूलभूत अनुभव को और विस्तृत करने, अपनी Technological capabilities को सुदृढ़ करने तथा अपनी Geo-strategic reach को बढ़ाने की आवश्यकता है। इस सन्दर्भ में, हमने मेकॉन की ख्याति को अंतरराष्ट्रीय बाज़ारों तक प्रसारित करने के लिए, इस वित्त वर्ष में, दो विश्वस्तरीय, प्रख्यात तथा प्रशंसनीय, अंतरराष्ट्रीय Trade Fair एवं Exhibitions में हिस्सा लिया । इनमें से एक विशिष्ट तकनीकी आयोजन था, AISTech-2019, जो कि Pittsburgh, USA में आयोजित हुआ था । इस आयोजन में हमारे तकनीकी विशेषज्ञों ने Papers प्रस्तुत किये और मेकॉन की प्रभावशाली उपस्थिति दर्ज करायी। इस श्रंखला में हमने, METEC-2019, जो कि Dusseldorf, Germany में आयोजित हुआ था, में भी participate किया और Indian Steel Pavilion के अंतर्गत, मेकॉन ने, इस्पात मंत्रालय की ओर से, प्रमुख Exhibitor की भूमिका निभायी । इसी Exhibition के दौरान, मेकॉन ने ‘भारतीय इस्पात उद्योग क्षेत्र में उपलब्ध अवसरों’ पर एक संगोष्ठी भी आयोजित की, जिसमें महत्त्वपूर्ण stakeholders तथा technology providers भी सम्मिलित हुए । इसके साथ-साथ हमने वहां Technological MoUs भी sign किये ।

    इस वर्ष, हम अपनी इस प्रगति को, एक नए आयाम पर लेके जाने के लिए योजना तैयार कर रहे हैं, जिसके अनुसार, अब हम केवल इन अंतरराष्ट्रीय Trade Fair एवं Exhibitions में हिस्सा हीं नहीं लेंगे बल्कि ऐसे अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों का आयोजन भी करेंगे । इस क्रम में आगे बढ़ते हुए हमने इन आयोजनों के लिए Target regions भी identify कर लिए हैं । इनमें से एक है APAC region (जिसमें Vietnam और Indonesia शामिल हैं) और दूसरा है MENA region (जिसमें Dubai जैसे व्यवसाय के विश्वस्तरीय आकर्षण के केंद्र शामिल हैं) । हमारे इन प्रयासों को तब और भी मज़बूती मिलती है, जब हमारी होनहार Project Execution Team को Overseas Client (जैसे की Bangladesh Army) की प्रशंसा प्राप्त होती है और Client खुद हमसे अपने अगले project में भागीदारी करने का प्रस्ताव देता है ।

    वर्तमान वर्ष मेकॉन के लिए बहुत सारी संभावनाओं से भरा हुआ है और हमने इन संभावनाओं को सफलताओं में बदलने के लिए कई योजनायें भी बनायीं हैं । परन्तु मेरा विश्वास है कि किसी भी योजना की सफलता हमारी कार्यकुशलता के साथ-साथ हमारे नज़रिए पर भी निर्भर करती है क्यूंकि- ‘जीत या हार’- हमारी सोच से प्रभावित होती है...अगर मान लें तो हार है और अगर ठान लें तो जीत है...

    इसीलिए आज मेरा आप सबको यह आवाहन है कि आईये हम मान लें कि जीतना ही हमारा एक मात्र विकल्प है... और ठान लें कि इस लक्ष्य-प्राप्ति के लिए हम अपने प्रयासों में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे

    इस चुनौतीपूर्ण वक़्त में इन्हीं कोशिशों के साथ, हम मेकॉन को हर दिन और मज़बूत बनाने की ओर अग्रसर हैं । लेकिन जहाँ तक मैं समझता हूँ, मेकॉन एक ऐसा अद्भुत संस्थान है, जिसने अपनी अद्वितीय क्षमताओं को अभी पूरी तरह पहचाना नहीं है । इसीलिए मैं आप सब से ये कहना चाहता हूँ कि आप अपनी क्षमताओं को अपनी सोच के पिंजरे से बाहर निकलने दें और फिर देखें कि हम सब साथ मिलकर कितनी उंची उड़ान भर सकते हैं...क्यूंकि

    ‘अभी तो इस बाज़ की असली उड़ान बाक़ी है

    अभी तो इस परिंदे का इम्तिहान बाक़ी है

    अभी अभी हमने लांघा है समुंदरों को

    अभी तो पूरा खुला आसमान बाक़ी है…’

    इन शब्दों के साथ, मैं एक बार पुनः, हमारे अविस्मरणीय स्वतंत्रता सेनानियों, हमारी सशस्त्र सेनाओं और अर्ध सैनिक बलों को, उनकी महानतम सेवा तथा पराक्रम के लिए, शत-शत नमन करता हूँ। मुझे पूर्ण विश्वास है कि हम सब मिलकर अपने देश को, अपने सपनों का भारत बनाने के लिए, हर संभव प्रयास करते रहेंगे...आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं...वन्दे-मातरम, जय हिंद!!!